इस पार से, तुम्हारे लिए

मैं चले जाने को देखता हूँ।

उस पल में जब चाँद रात भर धरती के करीब रह कर जाता है, तो मैं उस विरह को देखता हूँ। रात भर चाँद धरती की गोद में सोकर जा रहा होता है। धरती इस उम्मीद में कि चाँद लौटेगा, उसे जाने देती है। लेकिन सुबह के समय का विरह उसे भीगा देता है। आसमान में जो चिड़िया उड़ती हैं, वो सिर्फ विरह गीत गा रही होती हैं।

कहीं से जाना, कहीं आना है। लेकिन जाने में विरह गीत है। प्रेम का सच सिर्फ विरह में है। बाकि सब सिर्फ मोह है। मोह खूबसूरत है, विरह सच।
-

"रात भर जगे हैं
आँखें भी तो थके हैं
देख कर तुमको ही
कोसों हम चले हैं

"चंदा रे तू कैसे सोयेगा
रात भर ख्वाब बोयेगा
हम तो जगे हैं
तेरे पास ही खड़े हैं
आ जा ना रे
आ जा ना...
आँसू भर भर बहे हैं

"हँसी तेरी याद आये
कैसे तू दिल लगाए
करे ठिठोली
हाँ, तू करे ठिठोली...
और अब हमें रुलाये

"दूर दुनिया घूम आना
हमको तुम मत भूलाना
सपनों में आ भी जाना
देखेंगे हम सुबह सुहाना

"चंदा रे तू कैसे सोयेगा
रात भर ख्वाब बोयेगा
आ जा ना रे...
आ जा ना..."

27.3.17

रात के लिए

रात ऐसी है

कि खोये हुए हैं
कुछ रोये हुए हैं
लम्हों में क़ैद
सपने सोये हुए हैं

मैं अकेला हूँ तो क्या
एक जुगनू जल रहा है
मैं चल नहीं पाता
लेकिन साथ मेरे चल रहा है

अपनी दौलत
यादों की दौलत
और जो सब है
वो अपना कब है

रात ऐसी है
कि बस रात जैसी है

27.2. 2017

ना आया वो वक़्त

वो वक़्त जिसका कि वादा था
तुम्हारी बातों में
वो वक़्त जिसका कि ज़िक्र था
तुम्हारी अज़ानों में
वो वक़्त जिसके लिए लड़े थे
वो वक़्त जिसके लिए मरे थे
वो वक़्त जिसका था इंतज़ार
"आएगी सुबह"- था ऐतबार
ना आया वो वक़्त

तुम आये, वो आये, ये आये
ना आया वो वक़्त

हम बैठे हैं किनारे
थामे हाथ हम सारे
कि धर दबोचेंगे
कि पकड़ खाएंगे
कि गोश्त बनाएंगे
कि खा ही जायेंगे
जिस्म जो भूखा
जिस्म का भूखा
दाँतों को लगा
ख़ून का चस्का

अँधेरी रात में जन्मे
नंगे-अधनंगे
लोमड़ी के बच्चे

वक़्त को आने दो
वक़्त के साथ आने दो
उसके साथ की उम्मीद
के जिसका तंदूर बनाएंगे
हम ही इंसान कहलायेंगे

(ऐसे ही है)
(ऐसा ही है)

-13.11.2016

धूप में काम करती औरतें

धूप में काम करती औरतें
----

धूप में काम करती औरतें
आपस में बात करती हैं,
तो ठीक लगता है

दूर से लगता है कि
सब बढ़िया होगा
पास कभी जा भी नहीं पाते,
तो ठीक लगता है

आपस में बात करते हुए
वो भूल जाती हैं काम का दर्द
(भूलना ज़रूरी भी है)
वो भूल जाती हैं
घर पर बढ़ता क़र्ज़
(भूलना ज़रूरी भी है)
वो भूल जाती हैं बच्चे
के स्कूल के फीस
जमा करने की तारीख -
भूलना ज़रूरी भी है
वरना आपस में बात करते हुए
चुटकुले नहीं सुनायेंगी
एक-दूसरे को,
हँसेगी नहीं

-हँसना बहुत ज़रूरी है
दोपहर के वक़्त सड़क पर
काम करते हुए-
ईंट उठाते हुए
पत्थर तोड़ते हुए

धूप में काम करतीे औरतें
मासूम लगती हैं-
क्योंकि मैं एक मर्द हूँ
और
सड़क पर
धूप में
कभी भी काम नहीं किया।

मैं रिक्शे पर बैठा सोचता हूँ

दोनों साथ ही
चल रहे हैं
फिर भी साथ नहीं हैं

दोनों को
एक ही हवा लगती है
लेकिन फिर भी
हवा एक नहीं है

हम दोनों के हिस्से
की दुनिया बँटी हुयी है
और हमें ये पता भी नहीं

हम पूरी दुनिया को
अपना ही मान कर चल रहे हैं
और अपने अपने हिस्से
के दुःख को
सबका दुःख मान कर
दुःखी भी नहीं हैं

इतने अजीब हैं हम
या फिर इतने
मस्त हैं हम

-23.9.2016

ग़ज़ल

जब भी दिल उदास होता है
एक दोस्त मेरे पास होता है

यूँ तो कमाया कुछ नहीं हमने
खर्च करने को जहान होता है

छोटे घरों में रहना पसंद नहीं
सर पर हमारे आसमान होता है

थक जाते हैं जब चलते चलते
तेरी छाँव में मकान होता है

16.8.2016

यायावर

ज़मीन पर टूटे शीशे पड़े थे। रास्तों पर कोई चलता नहीं था। और एक वो जो दौड़ कर पार गया पागल था सबके लिए- और अपने लिए आदर्श।

मेरी कहानियों में मौजूद हैं अनगिनत पागल। मैं बचपन से पागलों के बहुत क़रीब रहा हूँ। और इन पागलों को अपना भी लगता हूँ। लेकिन मैं बॉर्डरलाइन पागल ही बना रहा। बहुत कोशिश भी की कि पूरा पागल बन जाऊँ। अब कोफ़्त होती है ऐसे लोगों से जो ख़ुद को पागल कहते हैं, यायावर कहते हैं। बहुत मुश्किल है साथी। सबकुछ खोने की शर्त है, और पाने को बस खुला आसमान।

---

सफ़र मुश्किल है साथी
नहीं आसान यायावरी
खोने को सबकुछ है
और पाने को खुला आसमान

सफ़र मुश्किल है साथी
छोड़ना दुनियावी माया
और पाना शून्य
नहीं सबके बस की

कविता करना बिना मतलब
-कि जान लेना नहीं आएगी
कोई क्रांति
सब क्रांतिवीर फँसे हैं
आलू और प्याज़ ख़रीदने में

और जो बचा है
वो पागल कवि
छंद के आकार में फँसा है

सफ़र मुश्किल है साथी
लेकिन चलो चलते हैं
कि कुछ दूर ही है जूपिटर
- और वहाँ बैठे पागल
इंतज़ार कर रहे हैं।

8.8.2016

जब जाल समेटूँगा

मैं
अपना जाल समेट
चला जाऊँगा कहीं

कहाँ-
पता नहीं

पता है लेकिन
वहाँ नहीं होगी
भाग-दौड़ कोई
मैं दौड़ूंगा सिर्फ
तितलियों के पीछे

मैं कोई तिलिस्म
पैदा करूँगा
और बन जाऊँगा
चिड़िया
-बैंगनी परों वाली

मैं जाल समेटूँगा
और रख लूँगा
पास अपने
ज़रूरी सामान कुछ
-वो डायरी,
जिसमें तुम्हारा फूल है एक
-वो पल,
जिसमें हँसी हो तुम
-वो रात,
जब हम खामोश ही रहे

सुनो,
मैं जब
जाल समेट रहा होऊँगा,
तब मेरे जाल में
फँस जाना तुम।

22.6.16

ग़ज़ल

कदम दर कदम रिश्ते तोड़ते गए
हम ऐसे अपने सामान छोड़ते गए

आस पास हैं सभी, फिर भी नहीं कोई
हम अपने सारे भरम यूँ तोड़ते गए

ज़िन्दगी तू यूँ ही है या मतलब है तेरा
हर जवाब में ये सवाल खोजते गए

15.6.16

ग़ज़ल

तमाशा देखूँ कब तक सड़क पर, मैं घर में हूँ
दुनिया जल रही है, लेकिन अब मैं घर में हूँ

बचाने को बहुत कुछ था, और सब खो दिया
मैं बेवकूफ़ तो था, लेकिन अब मैं घर में हूँ

जंगलों में, वीरान रास्तों पर, हर गली, हर मोड़ पर
तुम्हें चलना था साथ मेरे, लेकिन अब मैं घर में हूँ

मशालें लेकर निकले थे सब, आ गयी क्रांति भी
खो गया नन्हा वो साथी, और अब मैं घर में हूँ

12.6.16